पुरुषार्थ किसे कहते हैं » पुरुषार्थ

Rate this post

पुरुषार्थ किसे कहते हैं

पुरुषार्थ किसे कहते हैं
पुरुषार्थ किसे कहते हैं

पुरुषार्थ दो शब्दों पुरुष और अर्थ से मिलकर बना है जिसका अर्थ है विवेकशील प्राणी का लक्ष्य । पुरुषार्थ का एक अर्थ उद्योग अथवा प्रयत्न करने से भी है, अर्थात अपने अभीष्ट | (मोक्ष) को प्राप्त करने के लिये उधम करना। पुरुषार्थ 4 हैं धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष।।

धर्म : religion

व्यक्ति को कर्त्तव्य मार्ग पर आगे बढ़ने और अपने | दायित्वों का निर्वाह करने की प्रेरणा देता है। धर्म ही मनुष्य | तथा समाज के अस्तित्व को अक्षुण्ण रखता है। प्रत्येक आश्रम | में व्यक्ति को धर्म के अनुरूप कार्य करने को कहा गया है।

अर्थ : Meaning

इसका प्रयोग व्यापक अर्थ में किया गया हैं अर्थ | भौतिक सुखों की सभी आवश्यकताओं और साधनों का द्योतक है। इसके अंतर्गत वार्ता (कृषि, पशुपालन, वाणिज्य) तथा राजनीति को भी सम्मिलित किया गया है।

काम : work

इसका तात्पर्य उन सब इच्छाओं से है जिनकी | पूर्ति करके मनुष्य सांसारिक सुख प्राप्त करता है। भारतीय धर्म दर्शन में काम का मुख्य उद्देश्य संतानोत्पत्ति द्वारा वंश वृद्धि करना माना गया है।

मोक्ष : Salvation

इसका तात्पर्य हृदय की अज्ञानता का नाश करके | जन्म-मरण के चक्र से मुक्ति प्राप्त करना। इसका संबंध आत्मा | से है। बौद्ध दर्शन में इसे निर्वाण और जैन दर्शशन में इसे कैवल्य कहा गया है।

Leave a Reply