रामायण चौपाई

2 Results

रामायण की सर्वश्रेष्ठ चौपाई | रामायण की चौपाई | रामायण चौपाई

रामायण की सर्वश्रेष्ठ चौपाई | रामायण की चौपाई – होइहि सोइ जो राम रचि राखा। को करि तर्क बढ़ावै साखा॥, रघुकुल रीत सदा चली आई, प्राण जाए पर वचन न जाई 

ओम जय जगदीश हरे | Om Jai Jagdish Hare | Vishnu ji Aarti

ओम जय जगदीश हरे | Om Jai Jagdish Hare – ॐ जय जगदीश हरे,स्वामी जय जगदीश हरे ।भक्त जनों के संकट,दास जनों के संकट,क्षण में दूर करे ॥