राजस्थान की कला एवं संस्कृति

Showing 10 of 12 Results

राजस्थान की संस्कृति | राजस्थानी संस्कृति | culture of Rajasthan

राजस्थान की संस्कृति | राजस्थानी संस्कृति – भारत के सभी मुख्य त्योहारों जैसे दिवाली, होली, और जन्माष्टमी को राजस्थान में भी बड़े धूम धाम से मनाया जाता हैं।

राजस्थान के प्रमुख महोत्सव | राजस्थान के प्रमुख मेले

राजस्थान के प्रमुख महोत्सव | राजस्थान के प्रमुख मेले » अन्तराष्ट्रीय मरू महोत्सव, अन्तर्राष्ट्रीय थार महोत्सव, तीज महोत्सव, गणगौर महोत्सव, ऊंट महोत्सव, पतंग महोत्सव, हाथी महोत्सव, राम रावण मेला, तीर्थराज मेला

राजस्थान की प्रमुख दरगाह, मस्जिद एवं मकबरे

राजस्थान की प्रमुख दरगाह, मस्जिद एवं मकबरे – जामा मस्जिद, ईदगाह मस्जिद, मलिकशाह की दरगाह, मस्तान बाबा की दरगाह, गुलाब खां का मकबरा, इकमीनार, गमता गाजी मीनार, भूरे खां की मजार, बीबी जरीना का मकबरा

राजस्थान के प्रमुख मंदिर | राजस्थान के मंदिर | Temple of Rajasthan

राजस्थान के प्रमुख मंदिर | राजस्थान के मंदिर – किराडू के मंदिर, अधुना के मंदिर, कपुर के जैन मंदिर, रणकपुर के जैन मंदिर, सिरोही विमलसहि मंदिर, पुष्कर के मंदिर, एकलिंगनाथ जी के मंदिर, रावण मंदिर, स्वर्ण मंदिर

राजस्थान की छतरियां | Rajasthan ki Chhatriyan

राजस्थान की प्रमुख छतरियां » रामगोपाल पालीवाल की छतरी, गैटोर की छतरियाँ, आहड़ छतरियां, पंचकुण्ड छतरियां ( मंडौर ), देवीकुंड सागर छतरियां

राजस्थान के दुर्ग | राजस्थान के किले | Forts of Rajasthan

राजस्थान के दुर्ग | राजस्थान के किले – गागरोन का किला, चित्तौड़गढ़ का किला, कुम्भलगढ़ का किला, रणथम्भौर का किला, मेहरानगढ, जैसलमेर दुर्ग, भटनेर का किला

राजस्थान के प्रमुख संत सम्प्रदाय

राजस्थान के प्रमुख संत सम्प्रदाय – दादूदयाल सम्प्रदाय, जसनाथी सम्प्रदाय, चरणदासी सम्प्रदाय, रामानन्दी सम्प्रदाय, निम्बार्क सम्प्रदाय, वल्लभ सम्प्रदाय, हरिदासी सम्प्रदाय, लालदासी सम्प्रदाय, संत धन्ना, रामस्नेही सम्प्रदाय, संत मीरा

राजस्थान के लोक देवता

“पाबू हडबू राम दे, मांगलिया मेहा। पांच्यू पीर पधारज्यों, गोगा जी जेहा” – राजस्थान के पांच पीर – 1. पाबूजी 2. हडबूजी 3. मेहा जी. 4. रामदेव जी 5. गोगा जी

भारतीय त्योहार – जैन, सिन्धी, सिक्खों के त्यौहार

भारतीय त्योहार – जैन, सिन्धी, सिक्खों के त्यौहार – भाद्रपद शुक्ल पंचमी से चतुर्दशी तक व्रत रखते हैं। आश्विन कृष्ण एकम् को पड़वा ढोक मनाते हैं।