भूगोल

गोल (Geography) वह शास्त्र है जिसके द्वारा पृथ्वी के ऊपरी स्वरुप और उसके प्राकृतिक विभागों (जैसे पहाड़, महादेश, देश, नगर, नदी, समुद्र, झील, डमरुमध्य, उपत्यका, अधित्यका, वन आदि) का ज्ञान होता है।

Showing 10 of 31 Results

Rajya rajdhani | Rajya aur rajdhani | राज्य और राजधानी

Rajya rajdhani | Rajya aur rajdhani | राज्य और राजधानी » उत्तरप्रदेश – लखनऊ, आँध्रप्रदेश – हैदराबाद, उत्तराखंड – देहरादून, तेलंगाना – हैदराबाद, गोवा – पंजी, त्रिपुरा – अगरतला

5 महासागर के नाम | महासागर के नाम हिंदी में | महासागर के नाम

5 महासागर के नाम, प्रशान्त महासागर, अटलांटिक महासागर, हिन्द महासागर, आर्कटिक महासागर, अंटार्कटिका महासागर – प्रशान्त महासागर सबसे बड़ा

समय | देशांतर और समय | समय चक्र क्या है | समय का महत्व

समय | देशांतर और समय | समय चक्र क्या है | समय का महत्व – पथ्वी अपने अक्ष पर 24 घण्टे में एक चक्कर लगाती है। अर्थात पथ्वी 24 घण्टे में 360° घूमती है।

मापनी के प्रकार | विकर्ण मापनी | सरल मापनी | तुलनात्मक मापनी

मानचित्र मापनी के प्रकार | विकर्ण मापनी | सरल मापनी | तुलनात्मक मापनी » मापनी व्यक्त करने की विधियाँ, मापनियों का रूपांतरण, मापनियों के वर्ग, निरूपक भिन्न विधि, रैखिक मापक विधि, साधारण कथन विधि

मानचित्र किसे कहते हैं | मानचित्र के प्रकार | मानचित्र की परिभाषा

मानचित्र किसे कहते हैं | मानचित्र के प्रकार | मानचित्र की परिभाषा » मानचित्र का अर्थ एवं परिभाषा, मानचित्रों का उद्देश्य, आवश्यकता एवं उपयोग, मानचित्रों का वर्गीकरण

भारत के खनिज संसाधन एवं उद्योग – Mineral Resources & Industries

कोयला देश में ऊर्जा का प्रमुख स्रोत हैं और देश की व्यावसायिक ऊर्जा की खपत में इसका योगदान 67 प्रतिशत है। इसके अलावा यह इस्पात और कार्बो-रसायनिक उद्योगों में काम आने वाला आवश्यक पदार्थ है। कोयले से प्राप्त शक्ति खनिज तेल से प्राप्त की गयी शक्ति से दोगुनी, प्राकृतिक गैस से पाँच गुनी तथा जल-विद्युत शक्ति से आठ गुना अधिक होती है।

भारत में कृषि – India Agriculture

भारत में कृषि ( India Agriculture ),भारत में कृषि विकास, भारत में कृषि क्षेत्र, भारत में कृषि उत्पादकता, भारत में कृषि के प्रकार, रबी फसल, खरीफ फसल, जायद फसलें

भारत की मिट्टियाँ – Indian Soils

भारत की मिट्टियाँ मुख्य रूप से आठ प्रकार पायी जाती हैं , जलोढ़ मिट्टी, काली मिट्टी, लाल एवं पीली मिट्टी, लेटेराइट मिट्टी, शुष्क मिट्टी या मरुस्थलीय मिट्टी, लवणीय मिट्टी, पीटमय मिट्टी, वन क्षेत्र की या पर्वतीय मिट्टी